प्रकटन

लिखता हूँ क्या, आदत ज़रा सी, राहत ज़रा सी😊